Devghar
देवघर

310 दिनों बाद बाबा वैद्यनाथ की स्पर्श पूजा शुरू, अर्घा हटने के बाद श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़

देवघर 3 फरवरी 2021 City On Click:

द्वादश ज्योतिर्लिंगों में सर्वश्रेष्ठ कामनालिंग बाबा वैद्यनाथ की स्पर्श पूजा मंगलवार से पुन: शुरू हो गयी। 310 दिनों के लंबे अंतराल के बाद बाबा वैद्यनाथ की स्पर्श पूजा शुरू होने से श्रद्धालुओं के चेहरे पर खुशी देखी गयी। गर्भगृह में प्रवेश कर बाबा वैद्यनाथ की स्पर्श पूजा कर निकलने वाले श्रद्धालुओं के चेहरे पर आत्मसंतुष्टि का भाव नजर आया।

वैसे तो अर्घा हटाए जाने की पूर्व में कोई घोषणा प्रशासनिक स्तर पर नहीं करायी गयी थी, बावजूद जैसे ही लोगों को जानकारी हुई कि बाबा की स्पर्श पूजा शुरू हो गयी है, बाबा दरबार में भारी भीड़ जुटने लगी। इस दौरान दूर-दराज से बाबा वैद्यनाथ पर जलार्पण करने पहुंचने वाले श्रद्धालुओं को जब अनायास स्पर्श करने का अवसर मिल गया तो सबसे अधिक खुशी उनके चेहरे पर नजर आयी।

बताते चलें कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण गत 25 मार्च 2020 से बाबा वैद्यनाथ की स्पर्श पूजा पर रोक सरकार के स्तर पर लगा दी गयी थी। कोविड-19 के कारण लंबे समय तक बाबा दरबार में आम श्रद्धालुओं की पूजा पर भी रोक ही रही थी। कोविड के कारण ही इस वर्ष विश्वप्रसिद्ध श्रावणी मेले का भी आयोजन भी नहीं कराया गया था। साथ ही प्राचीन पंजीकृत भादो मेला सहित मलमास मेला का भी आयोजन बाबानगरी में इस वर्ष नहीं किया जा सका।

वहीं पूजा शुरू कराने को लेकर राज्य सरकार से लेकर झारखंड हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट तक मामला ले जाने के बाद सरकार के स्तर पर सीमित संख्या में श्रद्धालुओं को जलार्पण की अनुमति जरूर प्रदान की गयी लेकिन जलार्पण के लिए अर्घा लगाया गया। कुछ दिनों तक अर्घा से जलार्पण के बाद से ही लगातार स्पर्श पूजा की मांग की जा रही है। मुख्यमंत्री तक से लोगों की ओर से मांग की जा रही थी। दो दिन पूर्व में ही झारखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डॉ. रवि कुमार के देवघर आगमन पर भी पुरोहितों ने स्पर्श पूजा शुरू कराने की मांग की थी।

13 Replies to “310 दिनों बाद बाबा वैद्यनाथ की स्पर्श पूजा शुरू, अर्घा हटने के बाद श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़

  1. gidrasajt4af.com представляет собой магазин, что придуман для дилеров подпольных изделий и сервисов. Такого рода услугу нереально приобрести в нормальном магазине, поскольку это неправомерно.

Comments are closed.