देश राजनीति राष्ट्रीय

कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार का संकट बढ़ता जा रहा

कर्नाटक में जेडीएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार का संकट बढ़ता जा रहा है. शनिवार को सरकार पर यह संकट और गहरा गया है क्योंकि 12 विधायक इस्तीफा देने के लिए विधानसभा पहुंच गए. इसमें से 11 विधायकों ने स्पीकर के मौजूद नहीं होने पर विधानसभा सचिव को इस्तीफा सौंप दिया. इससे पहले 12 विधायकों के इस्तीफे की बात कही जा रही थी. इस बीच, उप मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार विधायकों को मनाने में जुटे हुए हैं.

विधानसभा अध्यक्ष के.आर रमेश कुमार ने 11 विधायकों के इस्तीफे की पुष्टि की है. उन्होंने कहा कि 11 विधायकों ने मेरे कार्यालय में त्यागपत्र दिया है. मैं मंलगवार को ऑफिस आऊंगा. कानून के मुताबिक हम विधायकों को वापस नहीं लौटा सकते हैं. हम नियम कायदों के मुताबिक काम कर रहे हैं. रविवार को छुट्टी है और चूंकि मैं बेंगलुरु में नहीं हूं इसलिए सोमवार को भी दफ्तर में नहीं रहूंगा. मंगलवार को दफ्तर जाएंगे तो फिर इस मामले को देखा जाएगा.

इस बीच, कांग्रेस विधायक रामलिंगा रेड्डी ने कहा, ‘मैं पार्टी में किसी पर दोष मढ़ने जा रहा हूं और नहीं पार्टी हाई कमान के बारे में कुल बोल रहा हूं. लेकिन कुछ मुद्दों पर लगता है कि मेरी अनदेखी की जा रही है. इसीलिए मैंने यह फैसला(इस्तीफा) लिया है.’

इन विधायकों में 9 कांग्रेस के हैं, जबकि तीन विधायक जनता दल सेकुलर (जेडीएस) के हैं. बताया जा रहा है कि ये सभी आठ विधायक विधानसभा स्पीकर के यहां इस्तीफा देने पहुंचे हैं. हालांकि, स्पीकर फिलहाल विधानसभा वहां मौजूद नहीं है. ऐसे में लंबे समय से मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी सरकार पर चले आ रहे संकट ने अब दिलचस्प मोड़ ले लिया है.

ताजा जानकारी के मुताबिक, जो विधायक अभी विधानसभा स्पीकर के पास इस्तीफा देने गए हैं, उन सभी ने अपने मोबाइल फोन भी बंद कर लिए हैं.

ये विधायक इस्तीफा देने पहुंचे-

महेश कुम्थली- कांग्रेस

बी सी पाटिल – कांग्रेस

रमेश जर्कीहोली – कांग्रेस

शिवराम हेब्बर- कांग्रेस

प्रताप गौड़ा – कांग्रेस

सोमाशेखर- कांग्रेस

मुनिरत्ना- कांग्रेस

बिराथी बसवराज- कांग्रेस

रामालिंगा रेड्डी- कांग्रेस

एच विश्वनाथ- जेडीएस

नारायण गौड़ा- जेडीएस

गोपालिया- जेडीएस

पिछले साल हुए कर्नाटक विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने 70 और जेडीएस ने 35 सीटों पर जीत हासिल करके सरकार बनाई थी. जबकि बीजेपी ने 104 सीटें जीती थी. यह पहला मौका नहीं है जब कर्नाटक में गठबंधन सरकार को बनाए रखने की चुनौती आई हो. इससे पहले भी कांग्रेस के विधायकों के बीजेपी के संपर्क में होने की बात सामने आई थी. उस दौरान कहा गया था कि कांग्रेस के कुछ विधायक पार्टी से नाराज हैं और बीजेपी के साथ जाना चाहते हैं. हालांकि कांग्रेस पार्टी ने इन तमाम अटकलों को गलत बताया था. लेकिन अब तस्वीर बिल्कुल साफ नजर आ रही है.

कर्नाटक का यह सियासी घमासान उस बीच सामने आया है जब राज्य के मुख्यमंत्री कुमारस्वामी अमेरिका के दौरे पर हैं और वो कल रात बेंगलुरु लौटेंगे.