Sarhul
रांची

52 साल बाद पहली बार नहीं निकलेगी सरहुल शोभायात्रा,आदिवासी व सरना संगठन ने लिया फैसला

रांची 21 मार्च 2020 City On Click:

झारखंड के प्रमुख प्राकृतिक त्योहार सरहुल की शोभायात्रा 52 साल में पहली बार रांची में नहीं निकलेगा। यह करीब-करीब तय चुका है। रांची के सभी प्रमुख और बड़े आदिवासी व सरना संगठन तय कर चुके हैं। कई संगठन इसको लेकर निर्णय कर चुके हैं। जबकि, कई अपील कर रहे हैं। केंद्रीय सरना समिति अजय तिर्की गुट ने 23 मार्च को एक बैठक सिरम टोली में आहूत की है, िजसमें प्रमुख सरना संगठनों को बुलाया गया है। केंद्रीय सरना समिति फूलचंद तिर्की गुट के फूलचंद तिर्की ने कहा- जो निर्णय सभी लेंगे, हम उसके साथ हैं।

उधर, सीएनआई के छोटानागपुर डायसिस के अंतर्गत आने वाले सभी चर्च में होने वाली धार्मिक अनुष्ठान, पवित्र प्रभुभोज की आराधना 31 मार्च तक स्थगित कर दिया गया है। यह निर्णय शुक्रवार को संत पॉल कैथेड्रल में बैठक में लिया गया। वहीं, जीईएल चर्च के अंतर्गत आने वाले सभी शिक्षण और प्रशिक्षण संस्थानों को 31 मार्च तक बंद रखने का निर्णय लिया है।

चर्च में सभी प्रकार के अनुष्ठान, आराधना और प्रभुभोज को भी अगले आदेश तक स्थगित कर दिया गया है। यह निर्णय शुक्रवार को चर्च के सीआरसी कार्यालय में बैठक के दौरान लिया गया। बिशप दुलार लकड़ा ने कहा कि एनडब्लूजीईएल चर्च भी अगले आदेश तक बंद रहेगा।