झारखण्ड

बसंत पंचमी के शुभ अवसर पर महर्षि दयानंद गुरुकुल आश्रम में वेद के विद्यार्थियों के साथ वैदिक यज्ञ का आयोजन सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट एवं आर्य ज्ञान प्रचार समिति के संयुक्त तत्वधान में आयोजित

बसंत पंचमी सरस्वती पूजा के शुभ अवसर पर महर्षि दयानंद गुरुकुल आश्रम जो गोसाईडीह, बुंडू रांची से 40 किलोमीटर दूर स्थित है, में वेद के विद्यार्थियों के साथ वैदिक यज्ञ का आयोजन सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट एवं आर्य ज्ञान प्रचार समिति के संयुक्त तत्वधान में आयोजित किया गया.

इस महर्षि दयानंद गुरुकुल आश्रम में गरीब, ग्रामीण एवं इच्छुक बच्चों के लिए संस्कृत के द्वारा सनातन धर्म की प्राचीन वेद ग्रंथों की वैदिक रीति से शिक्षा दी जाती है

यह एक आवासीय प्राचीन पद्धति से संचालित एक गुरुकुल आश्रम है, जहां पर बच्चों को उच्चतम आवासीय शिक्षा एवं भोजन निशुल्क प्रदान किए जाते हैं

यहां 6 वर्ष से 12 वर्ष तक के 30 से भी ज्यादा बच्चे वैदिक रीति से संस्कृत द्वारा वेद उपनिषद एवं पुराण की शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं. छोटे-छोटे बच्चों के विशुद्ध वेद मंत्रोच्चार ने मंत्रमुग्ध किया. इस वैदिक महायज्ञ में वेद विद्यार्थियों के साथ उनके अभिभावक एवं बड़ी संख्या में ग्रामीणों ने हिस्सा लिया एवं वैदिक मंत्रोच्चार से यज्ञ किया. आज इस गुरुकुल की प्रथम वर्षगांठ भी मनाई गई. मौके पर बच्चों के अभिभावक भी मौजूद थे. वैदिक यज्ञ के बाद वेद विद्यार्थियों ने अपनी अद्भुत प्रतिभा का प्रदर्शन किया जिसमें रांची के कई गणमान्य व्यक्ति मौजूद थे.

सभी ने इन छोटे ग्रामीण बच्चों के वेद उच्चारण एवं मंत्रोच्चार की अद्भुत प्रतिभा को देखकर मंत्रमुग्ध हो गए भारतीय संस्कृति एवं वेद रक्षा एवं ज्ञान प्रचार प्रसार हेतु सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट इस गुरुकुल आश्रम के साथ कदम से कदम मिलाकर सहयोग देने का वचन दिया विशेष जानकारी देते हुए सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट के सचिव शालिनी शाह ने कहा की सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट का भी मुख्य उद्देश्य वेद पाठशाला, वेद महाविद्यालय एवं वेद विश्वविद्यालय की स्थापना करना है एवं विद्यार्थियों को वेद ज्ञान देकर उन्हें वेदाचार्य बनाकर पूरे विश्व के शिक्षण संस्थानों में प्रतिस्थापित कराना है ताकि पूरी दुनिया, भारत को विश्व गुरु के रूप में स्वीकार कर सकें. सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट वेद शिक्षा हेतु कटिबद्ध है एवं आप सभी से सहयोग की अपील करती है सूर्यांश भारत मिशन ट्रस्ट पूरे देश में चल रहे वेद शिक्षा संस्थानों के साथ मिलकर सहयोग देने का यथासंभव प्रयास करेगी