Hike
गैजेट

बंद हुआ मेड इन इंडिया मैसेंजर एप Hike, करोड़ों ने किया था डाउनलोड

दिल्ली 20 जनवरी 2021 City On Click:

मेड इन इंडिया इंस्टेंट मैसेजिंग एप Hike (लेटेस्ट नाम Hike StickerChat) को आधिकारिक रूप से बंद कर दिया है। इस मैसेजिंग सर्विस को बंद करने की घोषणा एप के फाउंडर और सीईओ केविन भारती मित्तल ने 6 जनवरी को की थी। हालांकि व्हाट्सएप पॉलिसी विवाद के बाद उनका यह ट्वीट वायरल हो रहा है। अब इस एप को गूगल प्ले स्टोर और एप्पल एप स्टोर से भी हटाया जा चुका है।

मित्तल ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘आज हम यह घोषणा कर रहे हैं कि StickerChat को जनवरी 2021 में बंद कर दिया जाएगा। आपके विश्वास के लिए हम सभी का धन्यवाद करते हैं। आपके सहयोग के बिना आज हम इस मुकाम पर नहीं होते।’ इसी दिन मित्तल ने यह भी बताया कि कंपनी अब Vibe और Rush जैसे एप्स पर फोकस करेगी। बता दें कि Vibe एक इनवाइट-ओनली कम्यूनिटी है। यानी अगर आपका कोई परिचित पहले से एप का इस्तेमाल कर रहा है, तभी आप इसपर अकाउंट बना पाएंगे।

करोड़ों थे यूजर्स

साल 2012 में जब Hike को लॉन्च किया गया था, तब यह काफी पॉप्युलर हुआ था। अगस्त 2016 में इसके रजिस्टर्ड यूजर्स की संख्या 10 करोड़ पहुंच गई थी। भारतीय एप होने के चलते बड़ी संख्या में यूजर्स ने इसपर अकाउंट बनाया। खास बात थी कि यह एप 10 क्षेत्रीय भाषाओं को सपोर्ट करता था। हालांकि व्हाट्सएप मैसेंजर के आसान इंटरफेस और ज्यादा सुविधाओं के चलते Hike की प्रसिद्धि कुछ दिन में ही खत्म हो गई।

क्यों बंद हुआ Hike

पिछले साल भारत और चीन के बीच हुए सीमा विवाद और बैन किए गए ढेरों विदेशी एप्स के बाद से स्वदेशी एप्स की डिमांड काफी बढ़ी है। वहीं, हाल में व्हाट्सएप के पॉलिसी अपडेट करने के ऐलान के बाद से यूजर्स दूसरे मैसेजिंग एप्स पर अकाउंट बनाने लगे हैं। इस बीच मेड-इन-इंडिया मैसेजेंर एप Hike को बंद करने की वजह का पता नहीं लग सका।