Farmaer
बिज़नेस

किसानों के लिए खुशखबरी, एसबीआई दे रहा है खेती की जमीन खरीदने के लिए 85 फीसद तक लोन, जानें नियम और शर्तें

दिल्ली 23 अगस्‍त 2020 City On Click:

अगर आप खेती के लिए जमीन खरीदना चाहते हैं और पूंजी नहीं है तो चिंता न करें, भारत का सबसे बड़ा सरकारी बैंक एसबीआई आपको लोन दे रहा है। स्‍टेट बैंक ऑफ इंडिया ने इसके लिए एसबीआई लैंड पर्चेज स्‍कीम शुरू की है। इस स्कीम के तहत आप खेती योग्य जमीन खरीदने के लिए बैंक से 85 फीसद तक लोन ले सकते हैं। स्कीम के तहत आपको 7 से 10 साल में कर्ज चुकाना होगा। कर्ज चुकाने के बाद खरीदी गई जमीन पर आपका मालिकाना हक हो जाएगा.। इस योजना का का मकसद छोटे किसानों और भूमिहीन कृषि श्रमिकों को खेती योग्‍य भूमि खरीदने के लिए प्रोत्साहित करना है।

लोन के लिए पात्रता और शर्तें

एसबीआई लैंड पर्चेज स्‍कीम के तहत लोन पाने की लिए अप्लाई करने वाले पर किसी भी तरह का कोई भी कर्ज बकाया नहीं होना चाहिए।

स्‍कीम के तहत आवेदन करने वाले का कम से कम 2 साल का लोन चुकाने का अच्छा रिकॉर्ड होना चाहिए

दूसरे बैंको के अच्छे उधारकर्ता भी आवदेन कर सकते हैं, हालांकि इसके लिए वे दूसरे बैंकों का बकाया चुका चुके हों

किसान को खेती की जमीन खरीदने के लिए जमीन के निर्धारित मूल्य का 85 फीसद लोन के तौर पर मिल जाता है, जो अधिकतम 5 लाख रुपये है।

इस 85 फीसदी के लिए भूमि की कीमत बैंक ही तय करेगा।

2.5 एकड़ से कम सिंचित जमीन वाले किसान लोन के लिए आवेदन कर सकते हैं

भूमिहीन किसान भी स्‍कीम के तहत कर्ज पाने के लिए आवेदन कर सकते हैं

योजना में 5 एकड़ से कम असिंचित भूमि वाले किसान भी आवेदन कर सकते हैं

स्कीम के फायदे

  • इस योजना में  1 से 2 साल का फ्री समय भी मिलता है, इसमें किसान अपनी जमीन को कृषि योग्य बना सकता है
  • भूमि पर उत्पादन शुरू होने से पहले के इस निर्धारित फ्री टाइम में किसान को कोई किस्त नहीं चुकानी होगी।
  • स्कीम के तहत भूमि पर उत्पादन शुरू होने से लेकर अधिकतम 9-10 वर्ष तक किसान छमाही किस्तों में लोन का भुगतान कर सकते हैं
  • अगर भूमि पहले से विकसित है तो फ्री टाइम अधिकतम 1 वर्ष होगा। वहीं, जो भूमि खरीदे जाने के तुरंत बाद उत्पादन योग्य नहीं है तो उसके लिए फ्री टाइम 2 साल होगा।

24 Replies to “किसानों के लिए खुशखबरी, एसबीआई दे रहा है खेती की जमीन खरीदने के लिए 85 फीसद तक लोन, जानें नियम और शर्तें

Comments are closed.